Awareness Camp

LECTURE SERIES – REPORT

स्वतंत्रता दिवस के 75वे वर्ष में भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे कार्यक्रम "आजादी का अमृत महोत्सव " के परिपेक्षय में आज ग्लोकल यूनानी मेडिकल कॉलेज, ग्लोकल यूनिवर्सिटी की ओर से भारतीय शिक्षा उ० मा० विद्यालय, बेहट में 06/09/2021 को एक व्याख्यान का आयोजन किया गया, जिसका विषय था - ' भारतीय चिकित्सा पद्धत्ति - इतिहास एवं दैनिक जीवन में महत्व' | इस अवसर पर ग्लोकल यूनानी मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो० अब्दुल मलिक ने स्कूल के छात्र/छात्राओं को सम्बोधित किया | समाज के बदलते परिवेश में मनुष्य की घटती रोग प्रतिरोधक क्षमता एवं बढ़ती हुई बीमारियों के लिए उन्होंने आज की अव्यवस्थित दिनचर्या जैसे: असमय सोना-जागना, शुद्ध स्वास्थ्य वर्धक भारतीय भोजन को छोड़कर फ़ास्ट फ़ूड की संस्कृति अपनाने को जिम्मेदार ठहराया | उन्होंने कहा कि आज की पीढ़ी देश का भविष्य है और इसका स्वस्थ रहना देश के लिए अति आवश्यक है | उन्होंने आगे कहा कि मानव शरीर में पूर्ण रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने एवं रोगो को समूल नष्ट करने में केवल और केवल आयुष पद्धति ही कारगर है | इस अवसर पर चर्म रोग विभागाध्यक्ष प्रो० अकील अहमद ने त्वचा रोगो से बचाव के लिए घरेलू जड़ी बूटियों की उपयोगिता के बारे में बताया | इस अवसर पर ग्लोकल यूनानी मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर दिलीप कुमार ने भी अपने विचार रखे | इस अवसर पर स्कूल की प्रधानाचार्या सुश्री ममता शर्मा, स्कूल प्रबंधक श्री दुर्गा प्रसाद शर्मा, ग्लोकल यूनानी मेडिकल कॉलेज के प्रो० मौ० शरीफ, डॉ० सना ज़की, प्रो० शमा अब्दुल हई, डॉ० ऐनी, मौ० शादाब आदि मौजूद रहे | कार्यक्रम का संचालन असिस्टेंट प्रोफेसर दिलीप कुमार ने किया |